जेन छुट गे हे, चुक गे उंखर फेर मउका, मतदाता सूची फेर जुरही नाव

मीनल तिवारी, रायपुर। अइसन पात्र मनखे अउ अठारा बछर के आयु पूरा करे युवा जेखर नाव मतदाता सूची म शामिल नइ हे उंखर नाव जुड़वाय बर अवइया बछर एक जनवरी ले मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम शुरू होही । एखर बर भारत निर्वाचन आयोग ह छत्तीसगढ़ समेत पांच राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मन ल परिपत्र जारी  कर देहे।  आयोग के मुताबिक छब्बीस दिसंबर के विस्तृत मतदाता सूची के प्रकाशन करे जाही। एखर बाद अवइया बछर पचीस जनवरी तक एमा दावा आपत्ति प्रस्तुत करे जा सकही। सुधार अउ नवा नाव…

Read More

कालि मनाय जाहि झंडा दिवस, सैनिक कल्याण परिसर में होही कार्यक्रम

मीनल तिवारी, रायपुर। सात दिसंबर के झण्डा दिवस हे। ये मउका म जिला सैनिक कल्याण परिसर म एक कार्यक्रम राखे जाही। एखर अगवई रायपुर कलेक्टर बसवराजु एस. करही। कार्यक्रम म रायपुर, धमतरी, महासमुंद, बलौदाबाजार अउ गरियाबंद जिला के भूतपूर्व सैनिक मन ल सम्मानित करे जाही। ए संबंध म अउ जादा जानकारी बर रायपुर के जिला सैनिक कल्याण कार्यालय म संपर्क कर सकत हे।

Read More

दुबारा नइ होवय मतदान, मतगणना के दिन बंद रइही दारू दुकान- चुनाव आयोग

मीनल तिवारी, रायपुर। राज्य म विधानसभा चुनाव के तहत कोनो भी मतदान केंद्र म पुर्नमतदान नइ होही। भारत निर्वाचन आयोग ह एखर पुष्टि करे हे। प्रदेश म दू चरण म पाछू बारा नवंबर अउ बीस नवंबर के नब्बे विधानसभा सीट बर मतदान होय रीहिस। मतदान के बाद कुछ एक जगा म पुनर्मतदान के मांग करे गे रीहिस। जम्मों तथ्य म विचार करे के बाद भारत निर्वाचन आयोग ह कोनो भी विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र म फेर से मतदान नइ कराय के फैसला लेहे। ये जानकारी छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी…

Read More

पकलू के गोठ-1: पकलू पछत हे टेनिस कोर्ट ले मुख्यमंत्री ह छक्का कइसे मारही?

रायपुर। टेनिस कोर्ट म हाथ म रैकेट लिए मुख्यमंत्री जी ह जोरहा एक शॉट मारथे. थोरकुन देरी बाद मीडिया के तिर म आथे. पत्रकारमन सरकार बनही के नहीं कइके सवाल करथे. सवाल के जवाब में डॉ. साहब कहिथे, मैं तो खिलाड़ी हरव आखिरी बॉल म छक्का मारके के जीतना पंसद हे. मुख्यमंत्री के अइसनहा कहे के बाद ले मोर मितान पकलू बड़ परसान हे. पूछत हे के टेनिस कोर्ट ले डॉ. साहब छक्का कइसे मारही? इहां तो मैच एक सेट, दू सेट म जीते जाथे. मैं कहेव पकलू बात तो…

Read More

मरना परही त मर जाबो, फेर छत्तीसगढ़ी ल शिक्षा अऊ सरकारी काम-काज के भाखा बनाबोन- नंदकिशोर शुक्ल

रायपुर। छत्तीसगढ़ी राजभाषा हमर महतारी भासा ये, छत्तीसगढ़ राज्य के गठन ह छत्तीसगढ़ी भाषा के आधारेच म होय हे। अऊ इही छत्तीसगढ़ी भाखा अधारित राज्य निर्माण बर हमार पुरखा मन ल लंबा संघर्ष करना परे रहिस, शहादत देना परे रहिस। फेर दुर्भाग्य हे के आज राज्य निर्माण के 18 साल अऊ राजभाषा बने के 10 साल बाद घलोक छत्तीसगढ़ी बर हमला अपनेच राज्य म संघर्ष करना परत हे। ये बात काली छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस के मौका म छत्तीसगढ़ी राजभाषा मंच के संयोजक नंदकिशोर शुक्ल ह कहिन। दरअसल रायपुर प्रेस क्लब…

Read More